Dastak Hindustan

पश्चिम बंगाल की ‘शिक्षक भर्ती घोटाला’ मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने सुजय कृष्ण को किया गिरफ्तार

कोलकाता:- पश्चिम बंगाल राज्य के ‘ शिक्षक भर्ती घोटाला’ मामले में प्रवर्तन निदेशालय  ने 12 घंटे पूछताछ के बाद सुजय कृष्ण को गिरफ्तार किया है। बीजेपी और कांग्रेस ने कहा कि टीएमसी के बड़े नेता सलाखों के पीछे होंगे।

पश्चिम बंगाल के सरकारी और सहायता प्राप्त स्कूलों में की गई अवैध नियुक्तियों में कथित संलिप्तता के आरोप में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार रात सुजय कृष्ण भद्र को गिरफ्तार कर लिया। ईडी ने भद्र को पूछताछ के लिए बुलाया था। उनसे अधिकारियों ने करीब 12 घंटे तक पूछताछ की और देर रात उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। भद्र को सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के दिग्गज नेताओं को करीबी बताया जाता है।

ईडी के एक अधिकारी ने फोन पर बताया  “पूछताछ के दौरान उन्होंने (भद्र) हमारे अधिकारियों के साथ सहयोग नहीं किया। हमने नौकरी घोटाले से जुड़े कुछ प्रासंगिक सवालों के जवाब हासिल करने की बहुत कोशिश की लेकिन उन्होंने सहयोग नहीं किया।”

दरअसल ईडी ने पिछले हफ्ते सुजय भद्र को समन भेजकर पूछताछ के लिए पेश होने को कहा था। वह इससे पहले सीबीआई के सामने कई बार पेश हुए थे जो भर्ती घोटाले की समानांतर जांच कर रही है।

भाजपा का कहना है कि यह स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) घोटाले में अब तक की सबसे महत्वपूर्ण गिरफ्तारी है। राज्य भाजपा के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा, “एसएससी घोटाले में यह अब तक की सबसे महत्वपूर्ण गिरफ्तारी है। कानून आखिरकार ‘मास्टरमाइंड’ और सबसे बड़े लाभार्थियों को पकड़ने के करीब पहुंच रहा है। भ्रष्टाचार में शामिल टीएमसी नेताओं की सूची लंबी है।’’ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भी कहा कि वह दिन दूर नहीं जब ‘‘टीएमसी के शीर्ष नेता सलाखों के पीछे होंगे।’’

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *