Dastak Hindustan

नई दिल्ली में अरविंद केजरीवाल ने स्कूल का उद्‌घाटन कर बीजेपी पर साधा निशाना

नई दिल्लीः- नई दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डॉ. बी.आर. आंबेडकर स्कूल ऑफ स्पेशलाइज्ड एक्सीलेंस की सौगात दी। उन्होंने बवाना के दरियापुर गांव में बने स्कूल का उद्‌घाटन किया। इस मौके पर शिक्षा मंत्री आतिशी स्थानीय विधायक जय भगवान शिक्षा सचिव अशोक कुमार और शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता समेत कई अन्य नेता भी मौजूद रहे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने स्कूल की इमारत का निरीक्षण भी किया। पूरी तरह एयर कंडीशनर यह स्कूल वर्ल्ड क्लास सुविधाओं से लैस है। इस स्कूल में 50 क्लास रूम, 8 लैब्स, 2 लाइब्रेरी, ऑफिस, स्टाफ रूम, लिफ्ट और ऑडिटोरियम समेत कई अन्य सुविधाएं मौजूद हैं।

उद्‌घाटन के बाद लोगों को संबोधित करते वक्त दिल्ली के पूर्व शिक्षा मंत्री और अपने खास सहयोगी मनीष सिसोदिया को याद करके अरविंद केजरीवाल भावुक हो गए। उनकी आंखों से आंसू बह रहे थे और लोगों को संबोधित करते वक्त उनका गला भर आया था। कुछ देर के लिए पूरा माहौल भावुक हो गया। यह देखकर सामने बैठे लोग अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के समर्थन में नारे लगाने लगे।

एक अधिकारी ने सीएम की तरफ पानी का गिलास बढ़ाया। पानी पीने के बाद भी सीएम काफी देर इमोशनल दिखाई दिए। उन्होंने मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी को लेकर बीजेपी पर जमकर निशाना  साधा।

केजरीवाल ने कहा कि आज मनीष सिसोदिया की बड़ी याद आ रही है। यह उन्हीं का सपना था। ये लोग (बीजेपी और केंद्र सरकार) चाहते हैं कि दिल्ली की शिक्षा क्रांति खत्म हो जाए। लेकिन हम उसे खत्म नहीं होने देंगे। इन्होंने झूठे आरोप लगाकर फर्जी मुकदमे करके उन्हें इतने महीनों से जेल में कैद कर रखा हुआ है क्योंकि मनीष अच्छे स्कूल बनाकर बच्चों की अच्छी शिक्षा का इंतजाम कर रहे थे। अगर वो ऐसा नहीं करते। तो ये लोग उन्हें कभी जेल नहीं भेजते।

अरविंद केजरीवाल ने उम्मीद जताते हुए बताया कि मनीष सिसोदिया बहुत जल्द जेल से बाहर आएंगे। उन्होंने कहा कि जब तक मनीष जेल में हैं। हमें और दोगुना रफ्तार से काम करके बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा देनी है। अगर हमने सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा दे दी तो एक पीढ़ी के अंदर ही देश से गरीबी दूर कि जा सकती है।

सीएम ने बताया कि बवाना के लोगों को एक नहीं, बल्कि दो स्कूल मिल रहे हैं। स्कूल ऑफ स्पेशलाइज्ड एक्सीलेंस के अलावा यहां पांच एकड़ में लड़कियों के लिए एक और नया स्कूल बनाया जा रहा है। नई इमारत बनने तक वह स्कूल इसी स्पेशलाइज्ड स्कूल की बिल्डिंग में चलेगा।

बवाना के स्कूल के उद्‌घाटन के साथ ही दिल्ली में अब स्पेशलाइज्ड स्कूलों की संख्या भी बढ़कर 35 हो गई है। वहीं शिक्षा मंत्री आतिशी ने कहा कि आठ साल पहले तक दिल्ली के सरकारी स्कूलों में बहुत सी सुविधाओं की बहुत कमी थी। मगर आज दिल्ली सरकार के सरकारी स्कूल हर मायने में प्राइवेट स्कूलों को न सिर्फ टक्कर दे रहे हैं। बल्कि उन्हें पीछे छोड़ रहे हैं।

इस तरह की और जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

 

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *