Dastak Hindustan

विपक्षी एकता को लेकर दुविधा में जम्मू-कश्मीर नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला

 

श्रीनगर (जम्मू-कश्मीर):- विपक्षी एकता को लेकर जम्मू-कश्मीर नेशनल कांफ्रेंस की टॉप लीडरशिप के बीच आपस में ही मतभेद उभर आए हैं। इसको लेकर फारूक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला की सोच बिल्कुल बटी हुई है। उमर अब्दुल्ला ने स्पष्ट संकेत दिया है कि वह भाजपा-विरोधी गठबंधन से बहुत दूर रहना चाहते हैं। उमर अब्दुल्ला का नजरिया बुजुर्ग फारूक अब्दुल्ला से बिल्कुल उलट है। उन्होंने पिछले हफ्ते ही भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों की एकजुटता का जमकर समर्थन किया था और वह विपक्षी दलों की कोशिशों पर सवाल उठाने वाले जेडीएस सुप्रीमो और पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा से बेंगलुरू जाकर मिल भी आए थे।

उमर अब्दुल्ला विपक्षी एकता को लेकर उत्साहित नहीं

अगर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 23 जून को पटना में आयोजित बैठक में भाजपा को विपक्षी दलों की ताकत दिखाना चाहते हैं, तो उनकी सोच को नेशनल कांफ्रेंस के इरादे से तगड़ा झटका लग सकता है। पार्टी के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि उन्हें इस तरह के महागठबंधन से अपनी पार्टी या जम्मू-कश्मीर को कोई फायदा नहीं दिखता।

ये नेता आर्टिकल 370 पर कहां थे- उमर अब्दुल्ला

नेशनल कांफ्रेंस को भाजपा विरोधी विपक्षी दलों के साथ जोड़ने की संभावनाओं को लेकर उन्होंने 2019 में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म किए जाने का हवाला दिया और कहा, ‘जब उन्हें हमारी जरूरत पड़ती है तो वह हमारा दरवाजा खटखटाते हैं………लेकिन, ये नेता 2019 में कहां थे, जब हमसे एक बड़ी धोखेबाजी की गई? ‘

राजनीति से जुड़ी अन्य खबरों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *